It is difficult to know what is right in all cases. - M.B., I.210.29

Baadalon Ki Gehraaee

बादलों की गहराई में सोचे क्या हुज़ूर?
ऊँचे-ऊँचे चेहरे है ज़मीं से कितने दूर!
आहे भरती है ये ठंडी हवा,
ऐसे, रंगीं राहों में अब हमको क्या हुआ?

चाँद से तारों का है आपस का फ़ासला,
बीच में ये गहना है, ये गहना दुनिया,
इस दुनिया को कह दे मजबूर,
मिटा दिया खुद हस्ती को, ये है किस का कसूर?

तमन्ना है यही, ऐसे यूं कभी
हम बसाये कोई नया जहां,
आशना (Acquaintance, lover) हो ये दिल, प्यार के काबिल,
साज़ ऐसी दी हो, सुने जहां...


मुसाफ़िर को मिले रास्ता,
ज़माने को मिले वास्ता,

ऐसे कैसे परवानों की बातें मशहूर?
जैसे ये नजराने है, वैसे है ये सुरूर,
है यकीं दिल में सुबह आएगी ज़रुर,
मिटेगा ये अँधेरा, होगा हर एक शह में नूर।

प्यार करते इधर, यार बनते इधर,
दास्तान-ए-सिफ़र सुनो यहाँ!
ये भी होंगे खफ़ा, क्या पता क्या गिला?
हर कदम पे मिले कोई नया!

मुसाफ़िर को मिले रास्ता,
ज़माने को मिले वास्ता।


1 comments:

Vaishali Jain said...

I haven't yet listened to this song but the lyrics seem beautiful... the song would be too, I'm sure. :)

Post a Comment